Initiation of inner change center

स्वागत

आइए आनंदमय जीवन के लिए कार्य प्रारंभ करें। आइये मिलकर समाज में व्याप्त समस्याओं, दर्द एवं बैचैनी को समझें। हम सीखने के दो कार्यक्रम अंतर्निरीक्षण एवं स्वावलोकन, समाज सेवा क्षेत्र में तीन सामुदायिक सेवा इंटर्नशिप, मंगल ग्राम एवं स्वास्थ्य शिविर नेटवर्किंग के दो समय बैंक एवं अच्छाई का दर्पण चला रहे हैं। इसके अतिरिक्त परामर्श के भी दो कार्यक्रम “क्या आप दुखी है मदद चाहिए” एवं “योगासन परामर्श” भी हैं। आइये आपका स्वागत है।

आपकी मान्यता है कि परोपकार/ लोकोपकार तब आप हमारे साथ जुड़कर कार्य कर सकते हैं। सइमाज सेवा (इंटर्नशिप, मंगल ग्राम एवं स्वास्थ्य शिविर)क्षेत्र के कार्यक्रमों में समय या अनुदान दे कर अथवा नेटवर्किंग कार्यक्रमों में समय देकर मदद कर सकते हैं।

यह स्व-स्पष्ट है कि शांति की प्राप्ति के लिए हमें स्वयं को जानना(समझना) होगा। यह केंद्र स्वयं को सीखने एवं समझने के दो कार्यक्रमों संचालित करता है अंतर्निरीक्षण एवं स्वावलोकन। आप इन कार्यक्रमों में सादर आमंत्रित हैं।

पर इस कार्यक्रमों में सम्मिलित होने के पहले कृपया आपको यह अवश्य सुनिश्चित करना चाहिए कि यदि आप अपने आपको पूर्णतः अथवा आंशिक जानने में सक्षम समझते हैं, तो इस केंद्र की आपको कोई आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि तब हम संवाद के स्थान पर मात्र विवाद/मत भिन्नता पर केंद्रित हो जाएंगे।

और यदि आप अपने आप को बिल्कुल भी नहीं जानते हैं स्पष्ट है कि आपको अपने आपको जानने की आवश्यकता ही नहीं है और तब भी यह कार्यक्रम आप को सीख देने में असमर्थ रह सकता है।

परंतु यदि वास्तव में आप अपने आप को जानने और खुद से सीखने को तत्पर हैं। आप अपने पूर्वाग्रहों, धारणाओं सिद्धांतों मान्यताओं के परीक्षण के लिए तैयार हैं, तो आपका स्वागत है तब हम भी आपके साथ साथ सीखना चाहेंगे और साथ-साथ सीखेंगे भी और जान सकेंगे जीवन क्या है? मृत्यु क्या है?

Initiation of inner change center